A pen that stutters..

Somedays I do have wished upon mythical powers ,

to plant ideas in my head
to make me feel less dead..
but all I have heard in the dead of the silent nights is my watch going tic -tic tic- tic
and my insecurities going berserk.
I wish I could continue this story and a thousand others,
but here I am holding a pen that ‘stutters’.

Yudh..

एक युद्घ है भीतर ही भीतर ..
ख़्वाहिशें भी खुद से और बगावत भी खुद से
एक तरफ अनमोल सपने और
दूसरी तरफ साहस का तराज़ू
एक पैर जमाने के साथ और
दूसरा कही मन के दलदल मे फसा हुआ..
आईने के उस पार मेरा अक्स या इस तरफ खड़ी मैं ?