The fight


Its easy somedays to hide what’s crawling inside me and

on some days it comes out,

shamelessly,

in the open, leaving me drowned..

gasping for my breath

pulling me under, with its weight.

I fight.. I fight with all my might..

And then,

When I am done wrestling it to the ground ,

leaving behind that bloody hound,

I rise , I rise from the blood bath ,

and tell the world its all fine.

And then.. I add a smile. 

🙂

छोड़ दूंगी लिखना……

..छोड़ दूंगी लिखना , बस मुझे मेरा मकसद बता दो।
उस डायरी से ज्यादा करीब तो नहीं तुम, जो इतना हक जता दो।
बहुत पन्ने खाली है अभी डायरी के
शौक अधूरे है अभी शायरी के।
और सब कहते है लिखना छोड़ दो।
छोड़ दूंगी लिखना , बस मुझे मेरा मकसद बता दो।
उस डायरी से ज्यादा करीब तो नहीं तुम, जो इतना हक जता दो।