Khayal 🍁 ( Just a thought)

Zindagi mai agar sab kuch haasil ho jaye,

toh woh zindagi kaha ….

khwaab kehlaati.

Aur khwaab jo saare poore hojaye,

toh zindagi kis kaam ki ?

Bade sheher aur Diwali…

सुना है बड़े शहरों मे दिवाली बहुत धूम से मनाई जाती है।

दफ़्तरो मे भी रात भर उजाला रहता है।