Yudh..

एक युद्घ है भीतर ही भीतर ..
ख़्वाहिशें भी खुद से और बगावत भी खुद से
एक तरफ अनमोल सपने और
दूसरी तरफ साहस का तराज़ू
एक पैर जमाने के साथ और
दूसरा कही मन के दलदल मे फसा हुआ..
आईने के उस पार मेरा अक्स या इस तरफ खड़ी मैं ?

Rains and me..

It was just drizzling and I wanted to step outside.
But somehow, I coudnt.
I was looking for someone to give me a little push,
even tho I never needed one when I was little.
Time took from me the courage to offer myself to the rain.
Now it was
only thru the winds I dared, to touch the rain.